Big plan by Mulayam against Mayawati
Big plan by Mulayam against Mayawati
in , ,

क्या नेता है मुलायम, शातिरता से गज़ब का प्लान बना दिया, सभी हाथ घी में, फंस गयी मायावती

मुलायम का प्लान – 38 पर मेरा बेटा लडेगा, और बाकि पर भाई शिवपाल, यानि सभी सीटों पर सपा और मुलायम

सपोर्ट करें, इसे शेयर जरुर करें
  • 14K
    Shares

मुलायम सिंह यादव ने अपने शातिर दिमाग से ऐसा प्लान बना दिया है जो की अगले लोकसभा चुनाव में मायावती को पूरी तरह बर्बाद और तबाह कर देगा

अच्छे अच्छे लोग भी मुलायम, अखिलेश और शिवपाल का दिसंबर 2018 में बना प्लान नहीं समझ पाए, आखिर ये 1 ही परिवार है, लड़ाई तो पहले थी अब सिर्फ नूराकुश्ती है, और इस परिवार की पूरी उँगलियाँ अब घी में है, और मायावती का इस्तेमाल कर ये उनका बुरा हाल करने की योजना बना चुके है

मायावती और अखिलेश ने गठबंधन किया है, 38-38 सीट पर दोनों चुनाव लड़ रहे है, मायावती सोच रही है की 38 सीटों पर जहाँ वो चुनाव लड़ेंगी, वहां सपा का वोट उनको मिलेगा, बसपा का उनका खुद का वोट और सपा का भी वोट, और दोनों वोट के मिल जाने से वो चुनाव जीतेंगी

साथ ही जिन 38 सीटों पर अखिलेश यादव की पार्टी चुनाव लड़ेगी, वहां मायावती का दलित वोट सपा को मिलेगा, यानि अच्छा खासा गठबंधन

पर मायावती और दुनिया भर के लोग मुलायम के जबरजस्त प्लान को नहीं समझ सके, असल में जिन 38 सीटों पर अखिलेश यादव को लड़ना है, वहां पर तो अखिलेश यादव को मायावती की पार्टी का साथ मिलेगा

पर बाप बेटे और चाचा ने प्लान बना लिया है की बसपा जिन 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, वहां सपाई समर्थको को बसपा को नहीं बल्कि शिवपाल की पार्टी को ही समर्थन देना है, और ये प्लान तीनो अर्थात मुलायम अखिलेश और शिवपाल का है

यानि 38 सपा की सीटों पर सपा घी में, जबकि मायावती की 38 सीटों पर सपा के कार्यकर्ताओं को साफ़ निर्देश दे दिया गया है की यहाँ शिवपाल से सिर्फ नूराकुश्ती दिखानी है, सपा के लोगो को बसपा को वोट नहीं देना है बल्कि शिवपाल की पार्टी को ही देना है

मायावती तो 38 सीटों पर अखिलेश की खूब मदद करेगी, पर अखिलेश मायावती को उनकी 38 सीटों पर जबरजस्त पटकनी देंगे, और ये सारा प्लान मुलायम का है

शिवपाल को भी कह दिया गया है की जहाँ पर सपा के 38 उम्मीदवार होंगे, वहां पर वो अपने उम्मीदवार उतारेंगे पर सिर्फ दिखावे के लिए, एकदम कमजोर उम्मीदवार, सिर्फ पैसा देकर उम्मीदवार उतारे जायेंगे

जबकि मायावती की 38 सीटों पर शिवपाल अपने सबसे ताकतवर उम्मीदवार उतारेंगे और ये सब उम्मीदवार भी वही होंगे जो सपा के ही नेता थे, जो नाम के लिए शिवपाल की पार्टी में जुड़े हुए है, पर असल में ये सब सपाई ही है

और इस तरह 38 सपा की सीटों पर सपा को बसपा का समर्थन यानि ऊँगली घी में, जबकि बसपा की 38 सीटों पर बसपा को धोखा, यानि सभी उँगलियाँ घी में

सपा की 38 सीटों पर बसपा का भी वोट मिलेगा जबरजस्त फायदा, जबकि बसपा की 38 सीटों पर सपा का वोट बसपा को नहीं मिलेगा, यानि मायावती फिर 00 अंडा ही लायेंगी, और इस से सन्देश भी साफ़ हो जायेगा, की सपा के मुकाबले बसपा की कोई हैसियत नहीं, और मायावती की राजनीती हमेशा हमेशा के लिए ख़त्म !