4106 crores for Madarasa by momta banarjeeअन्य खबर

बंगाल बजट 2019 – उच्च शिक्षा के लिए 3964 करोड़, मदरसा के लिए 4016 करोड़, उच्च शिक्षा से ज्यादा जरुरी मदरसा

हमे सपोर्ट करें, इसे शेयर जरुर करें
  • 1.7K
    Shares

आप जिस पश्चिम बंगाल के बारे में ये खबर पढ़ रहे है, वो कोई घोषित इस्लामिक देश नहीं है, ये सेक्युलर भारत का एक राज्य है

और ऐसा राज्य जहाँ पर 1 साल के लिए उच्च शिक्षा का बजट है 3964 करोड़ जबकि मदरसा के लिए बजट है 4016 करोड़ रुपए

यानि इस राज्य में उच्च शिक्षा जिसमे डाक्टर, इंजिनियर, विज्ञान इत्यादि से भी ज्यादा जरुरी है मदरसा, इस राज्य में मुस्लिम आबादी अब 30% को पार कर चुकी है, सही मायने में तो 35% से ज्यादा हो चुकी है, और अब विज्ञानं, गणित इत्यादि से ज्यादा जरुरी मदरसा हो चूका है

पिछली बार मदरसा का बजट 2800 करोड़ रुपए था, जबकि इस बार मदरसा का बजट 4 हज़ार करोड़ को भी पार कर गया है

नए नए मदरसा खोले जायेंगे, और वहां पढाया जायेगा की धरती चपटी है,  सूरज आग के दरिया में डूब जाता है, और इसी शिक्षा के लिए राज्य सरकार ने 4 हज़ार करोड़ से भी ज्यादा का बजट बना दिया है, जो की उच्च शिक्षा के बजट से भी ज्यादा हो चूका है

2006 में मदरसा का बजट पश्चिम बंगाल में 12 करोड़ था, जो की अब 4 हज़ार करोड़ को भी पार कर गया है, 2011 से ही बंगाल में मोमता बनर्जी की सरकार है और इस सरकार में मदरसा, उच्च शिक्षा से भी ज्यादा जरुरी है

शायद ये ही सेकुलरिज्म है, और ये जो कुछ भी है उसके लिए कोई और नहीं बल्कि बंगाली हिन्दू ही प्रमुख जिम्मेदार है क्यूंकि सबकुछ उनकी आँखों के सामने ही तो हुआ है, सेकुलरिज्म ने ये हाल कर दिया है की उच्च शिक्षा से भी ज्यादा जरुरी अब राज्य में मदरसा हो चूका है