anna hazare ends fast
anna hazare ends fast
in ,

अन्ना ने कहा था – मोदी ने मांग नहीं मानी तो शहीद होने को तैयार, भाव नहीं मिला तो झट से ख़त्म कर दिया अनशन

अन्ना मरने की बातें करने लगे थे, पर फिर भी नहीं मिला भाव, तो समझ गए अब अनशन से फुटेज मिलने वाले दिन गए

सपोर्ट करें, इसे शेयर जरुर करें
  • 7K
    Shares

कथित समाजसेवी और मास्टर धरनेबाज अन्ना हजारे ने आज अपना अनशन झट से ख़त्म कर दिया, वो भी बिना किसी के मनाये हुए

जी हां, पिछले दिनों अन्ना हजारे ने मोदी सरकार के खिलाफ अनशन शुरू किया था, उन्होंने अपना अनशन अपने गाँव रालेगन सिद्धि में शुरू किया था

अन्ना हजारे को हर बार अनशन के बदले खूब सारी मीडिया फुटेज, भाव मिला, नेता से लेकर लोगो ने भी भाव दिया, तो अन्ना हजारे को अनशन के बदले भाव लेने की आदत सी थी

पर इस बार अन्ना हजारे के अनशन पर न ही मीडिया ने भाव दिया, न ही लोगो ने और न ही नेताओं ने, यहाँ तक की अन्ना हजारे के आन्दोलन की उपज केजरीवाल और उसकी पार्टी का 1 छुटभैया नेता तक नहीं गया, हां केजरीवाल मोमता बनर्जी के अनशन में बीजी रहा

यहाँ भाव न मिलता देख अन्ना ने 2 बार भाव लेने की कोशिश भी की, एक बार कहा की मुझे कुछ हो जाता है तो उसके लिए नरेंद्र मोदी जिम्मेदार है, मैं मर जाऊंगा पर मांग न माने जाने तक अनशन नहीं तोडूंगा

फिर भी भाव नहीं मिला तो अन्ना हजारे ने फिर कहा की – अब मेरी बात नहीं सुनी जा रही, देश के हालात अब बहुत ख़राब हो गए है, अब मैं अपना पद्म अवार्ड वापस कर दूंगा

अन्ना को फिर भी कोई भाव नहीं मिला, वृद्ध आदमी है, पूर्व सैनिक रहे है, इनके अपने लोगो ने भी इनको भाव नहीं दिया, बीजेपी को शायद दया आ गयी इसलिए आज महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अन्ना हजारे से मिलने पहुंचे और अन्ना ने ख़ुशी ख़ुशी झट से अपना अनशन तोड़ दिया

अन्ना हजारे का अनशन ख़त्म हो गया, और जिस तरह का रिस्पोंस उन्हें इस अनशन पर मिला है, अब शायद ये उनके जीवन का आखिरी अनशन है

वैसे बढ़िया है, अब इनके माथे से अनशन कर फुटेज खाने का भुत भी उतर गया होगा, और देश को भी फालतू के ड्रामे और नाटक से आज़ादी मिलेगी, अन्ना हजारे रिटायर फौजी हैं, और अब उनका अनशन वाले काम से भी रिटायरमेंट हो ही गया