Congress Muslim supporter gave life Threat to Rohit Sardanaआतंकवाद

कांग्रेस के मुस्लिम समर्थक ने दी पत्रकार रोहित सरदाना को जान से मारने की लिखित धमकी

हमे सपोर्ट करें, इसे शेयर जरुर करें
  • 2.7K
    Shares

कल 11 फ़रवरी को सुबह से ही मीडिया ने देश के सामने राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा की लखनऊ रोड शो में इतनी भीड़ आई बताना शुरू कर दिया

देश के सभी दलाल पत्रकारों ने पुरे दिन राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा का गुणगान किया, हालाँकि शाम को सोशल मीडिया ने कांग्रेस के रोड शो और दलाल मीडिया के झूठ को पूरी तरह एक्सपोज कर दिया, राहुल प्रियंका का रोड शो पूरी तरह सुपर फ्लॉप था, जिसे मीडिया हिट बता रही थी

सभी दलाल पत्रकार प्रियंका वाड्रा की हवा बनाने के लिए तारीफ पर तारीफ कर रहे थे, पर पत्रकार रोहित सरदाना ने ये काम नहीं किया, इसी से कांग्रेस का एक मुस्लिम समर्थक नाराज हो गया

इस कांग्रेस के मुस्लिम समर्थक का नाम है – नवाब सुफियान मुमताज़ अंसारी, इसने रोहित सरदाना को लिखित रूप से जान से मारने की धमकी दे डाली

Congress Muslim supporter gave life Threat to Rohit Sardana

Congress Muslim supporter gave life Threat to Rohit Sardana

इस कांग्रेस समर्थक ने पहले रोहित सरदाना को कई गालियाँ लिखी, रोहित सरदाना ने प्रियंका वाड्रा की तारीफ नहीं की उसपर ये नाराज था, उसके बाद इसके साथी ने भी रोहित सरदाना को गाली लिखी

तो इसने उसे जवाब देते हुए कहा की मैं PM (मोदी) से ज्यादा इसकी फिराक में हू, यानि ये शख्स मोदी को भी जान से मारना चाहता है और उस से पहले रोहित सरदाना को जान से मारने के फिराक में है

रोहित सरदाना ने फिर इसके त्वीट का जवाब दिया, फिर इसने अपने त्वीट को डिलीट कर दिया, और इसने अब अपने प्रोफाइल को भी काफी हद तक बदल दिया, नाम हटा दिया, फोटो भी हटा दिया, अभी इसका प्रोफाइल इस तरह का दिख रहा है

ये कांग्रेस का समर्थक है, और इसके प्रोफाइल को आप खोलेंगे तो आपको मोदी के खिलाफ गालियाँ, कांग्रेस की तारीफ के अलावा कुछ नहीं मिलेगा

ये लोग इस बात से नाराज हो जाते है की अगर कोई राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा की तारीफ न करे तो उसे जान से मारने की धमकियाँ देने लगते है, वैसे तो किसी सेक्युलर पत्रकार को छोटी मोटी गाली भी दे दी जाये तो उसे पत्रकारिता पर हमला घोषित कर दिया जाता है, पर सरदाना जैसे पत्रकारों को जान से मारने की धमकियाँ आये दिन दी जाती है उसपर कथित पत्रकार समाज ऐसे मौन रहता है जैसे गाँधी का 3 बन्दर हो