Justice for Sachin and Gaurav
Justice for Sachin and Gaurav
in

मुज़फ्फरनगर – सचिन और गौरव को न्याय, 7 मुस्लिमो को कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा

2013 में पहले मुस्लिम समुदाय के लोगो ने हिन्दू लड़की को छेड़ा था, विरोध पर करी थी सचिन और गौरव की हत्या, तभी हुए थे दंगे

सपोर्ट करें, इसे शेयर जरुर करें
  • 6K
    Shares

अखिलेश यादव की सपा सरकार ने हत्यारों को बचाने की बहुत कोशिश की, इसके साथ साथ मुज़फ्फरनगर के कई निर्दोष हिन्दुओ को भी फंसाने की कोशिश की

पर योगी सरकार के आने के बाद आख़िरकार न्याय की शुरुवात हुई, पहले 38 मासूम और निर्दोष हिन्दुओ के केस ख़त्म किये गए, इसके अलावा दंगा करने वाले लोगो के खिलाफ कार्यवाही भी सही मायनो में शुरू की गयी

और इसी कारण आज मुज़फ्फरनगर दंगा केस में गौरव और सचिन की हत्या करने वालो को उम्रकैद की सजा सुनाई गयी है, कोर्ट ने इनको पहले ही दोषी करार दिया था, पर आज इन सभी 7 को उम्रकैद की सजा सुनाई गयी

इन सातों के नाम है – मुज़म्मिल, मुजस्सिम, फुरकान, नदीम, जहाँगीर, अफज़ल, और इक़बाल, इन सभी को उम्रकैद दी गयी है, हालाँकि इनको फांसी दिए जाने की मांग थी

बता दें की सचिन और गौरव मुज़फ्फरनगर के कवल गाँव के रहने वाले थे, यहाँ पर पहले इनकी बहन के साथ मुस्लिम समुदाय के लोगो ने छेड़छाड़ की, जिसका सचिन और गौरव ने विरोध किया

जब सचिन और गौरव ने छेड़छाड़ करने वालो का विरोध किया तो 7 की मजहबी भीड़ ने उनपर हमला कर दिया और दोनों को पीट पीट कर मार डाला

इसी घटना के बाद मुज़फ्फरनगर में दंगे हुए थे, दंगों की शुरुवात मजहबी लोगो ने की थी, इस मामले में आज सचिन और गौरव के साथ न्याय हुआ है, वैसे अभी दंगाइयों के पास हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट जाने का रास्ता खुला हुआ है, पर न्याय की शुरुवात तो आज हो ही गयी

इस मामले में जमकर राजनीती भी हुई थी, असल में ये जितने हिन्दू थे उनमे अधिकतर जाट ही थे, सचिन और गौरव भी जाट थे, पर खुद को बड़ा जाट नेता बनने वाले अजित सिंह ने इनका साथ नहीं दिया और वो दिल्ली भाग गया, बीजेपी के स्थानीय नेताओं ने इनका साथ दिया था, और योगी राज में ही सचिन गौरव को न्याय भी मिला और कई निर्दोष हिन्दुओ (जाटो) के फर्जी केस भी ख़त्म किये गए, जिन्हें अखिलेश यादव की सरकार ने फंसाया था जिसके साथ आज अजित सिंह खड़े हुए है