kumbh vs haj
kumbh vs haj
in ,

20 दिनों में कुम्भ में 12.5 करोड़ लोगो ने किया स्नान, पुरे हज से 56 गुना ज्यादा, विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन

सऊदी अरब सरकार के आंकड़ो के अनुसार 2018 हज में दुनिया भर से टोटल 23 लाख लोग आये थे, कुम्भ में 20 दिन में 12.5 करोड़

सपोर्ट करें, इसे शेयर जरुर करें
  • 12.4K
    Shares

कुम्भ मेला – ये भारत ही नहीं बल्कि इस धरती का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन है, और इस बार के कुम्भ ने कई सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए

इस बार कुम्भ की शुरुवात मकर संक्रांति यानि 14 जनवरी से हुई थी, और पिछले 20 दिनों में, 3 फ़रवरी तक कुम्भ में 12 करोड़ 50 लाख लोगो ने पवित्र स्नान किया है

पहले ही दिन ढाई करोड़ से ज्यादा लोगो ने कुम्भ स्नान किया था, मौनी अमावस्या के दिन तो पहले दिन का भी रिकॉर्ड टुटा और 3 करोड़ लोगो ने स्नान किया

20 दिनों में 12 करोड़ 50 लाख लोग कुम्भ नगरी आ चुके है, स्नान कर चुके है, और सरकार पूरा डेटा तैयार कर रही है

इस बार के कुम्भ में ज्यादा लोग इसलिए आ रहे है क्यूंकि इस बार कुम्भ का आयोजन बहुत बड़े तौर पर किया गया है, खूब सुख सुविधा, आने जाने की सुविधा लगाई गयी है

योगी सरकार ने कुम्भ को बहुत बड़े स्तर पर आयोजित करवाया है, एकदम साफ़ निर्मल पानी है, खाने पीने की सुविधा और रेलवे भी बढ़िया काम कर रहा है, इसी कारण प्रयागराज में 20 दिनों में 12.5 करोड़ लोगो ने आकर स्नान किया है

अभी कुम्भ काफी दिनों तक चलना है, और माना जा रहा है की आंकड़ा 20 करोड़ तक भी पहुँच जाये तो कोई बड़ी बात नहीं, कुम्भ के आयोजन पर योगी सरकार ने 4 हज़ार करोड़ रुपए के आसपास खर्च किया था, पर राज्य सरकार को इस हिन्दू धार्मिक कार्यक्रम से 1 लाख करोड़ रुपए की कमाई का अनुमान है

आपको बता दें की सिर्फ 20 दिनों में कुम्भ में पुरे 1 साल के हज से 56 गुना ज्यादा लोग आये है, हर साल सऊदी की सरकार भी हज आने वालो का रिकॉर्ड और डेटा बनाती है

पिछले साल 2018 हज में पूरी दुनिया से 23 लाख से थोड़े ज्यादा लोग हज में आये थे

सऊदी सरकार के आंकड़े आपके सामने है, 2018 हज में 23 लाख 71 हज़ार 675 लोग ही टोटल आये थे पूरी दुनिया से

जबकि कुम्भ में पिछले 20 दिनों में 12 करोड़ 50 लाख लोगो ने आकर स्नान किया है, और आंकड़ा तो अभी बहुत बढेगा, 20 करोड़ तक भी पहुँच सकता है

20 दिनों में कुम्भ में हज के मुकाबले 56 गुना ज्यादा लोग आये, इस धरती पर कुम्भ जैसा धार्मिक आयोजन, धार्मिक यात्रा और कोई नहीं, कुम्भ का मुकाबला कोई करने की दूर दूर तक सोच भी नहीं सकता, हर हर महादेव