यूनिवर्सिटीज में देशद्रोही गतिविधियाँ रोकने के यूपी में लिए योगी लाये अंब्रेला एक्ट, भड़की कांग्रेस

JNU, AMU और बहुत सी यूनिवर्सिटीज में छात्र राजनीती के नाम पर देशद्रोह, सेना विरोधी, देश विरोधी गतिविधियाँ चलती है, और इस बात को सभी जानते है, सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी ये बात सब जानते है की छात्र राजनीती के नाम पर किस तरह की गतिविधियाँ चलती है

योगी सरकार अब एक नया अध्यादेश लेकर आई है, इस अध्यादेश के मुताबिक अब उत्तर प्रदेश की सभी यूनिवर्सिटीज को सरकार को लिखित हलफनामा देना होगा और उसमे लिखना होगा की उनके यहाँ छात्र राजनीती के नाम पर किसी तरह की राष्ट्र विरोधी हरकत नहीं होगी

न ही किसी भी प्रकार के राष्ट्र विरोधी हरकत वाले कार्यक्रम को मंजूरी दी जाएगी, और अगर ऐसी हरकतें यूनिवर्सिटीज में होती है तो यूनिवर्सिटी ही जिम्मेदार होगी और उसके खिलाफ क़ानूनी कार्यवाही होगी

योगी सरकार ने इस एक्ट को अंब्रेला एक्ट का नाम दिया है और इसे विधानसभा में पेश करने की तैयारी है जिसके बाद इसे राज्यपाल के पास भेजा जाना है

अब इस एक्ट पर कांग्रेस योगी सरकार पर भड़क गयी है और कांग्रेस ने अभिव्यक्ति की आज़ादी का मुद्दा उठा दिया है

कांग्रेस ने योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा की, पहले भाजपा बताये की राष्ट्र विरोधी गतिविधियाँ क्या होती है, कांग्रेस ने अभिव्यक्ति की आज़ादी को अब खतरे में बता दिया है, और अंब्रेला एक्ट को छात्रों पर किया जा रहा हमला भी घोषित कर दिया है

जबकि योगी सरकार ने एक्ट में साफ़ तौर पर कहा है की यूनिवर्सिटीज में छात्र राजनीती करने की पूरी छुट है, सिर्फ राष्ट्र विरोधी गतिविधि करने की छुट नहीं है, पर कांग्रेस भड़क चुकी है

वैसे कांग्रेस और राष्ट्र विरोधियों का साथ कोई नयी बात नहीं है, आपको याद होगा JNU में जब कन्हैया कुमार, उमर खालिद जैसों ने भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाल्लाह इंशाल्लाह के नारे लगाये थे, तो उनके समर्थन में स्वयं राहुल गाँधी JNU पहुंचे थे, कांग्रेस के लिए भारत विरोधी गतिविधियाँ अभिव्यक्ति की आज़ादी है, कांग्रेस ने अपने लोकसभा चुनाव घोषणापत्र में तो राष्ट्र द्रोह के कानून को ही ख़त्म करने का वादा किया था