“इस्लामिक चरमपंथियों मैं मुसलमान हूँ और शान से बोलूंगी वन्दे मातरम, रोक सको रोक लो”

जब भारत पाकिस्तान का बंटवारा भी नहीं हुआ था तब लाहौर में उर्दू में ‘वन्दे मातरम’ नाम से अख़बार चला करते थे, तब वन्दे मातरम से इस्लाम खतरे में नहीं पड़ता था

पर पिछले 1 दशक से वन्दे मातरम को लेकर इस्लामिक चरमपंथियों ने काफी उन्माद मचाया है, अभी हाल ही में समाजवादी पार्टी के नए नवेले सांसद शफीकुर रहमान ने लोकसभा में सदस्यता के शपथ के दौरान वन्दे मातरम पर हमला किया

समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान ने जो की अखिलेश यादव की पार्टी के सांसद है उन्होंने वन्दे मातरम को हराम बताया और कहा की मैं वन्दे मातरम नहीं बोलूँगा

इस्लामिक चरमपंथियों का कहना है की इस्लाम में वन्दे मातरम नहीं बोल सकते, अपने देश की जय जय कार नहीं कर सकते, देश को नमन नहीं कर सकते

ऐसे इस्लामिक चरमपंथियों को अब एक मुस्लिम लड़की ने करारा तमाचा जड़ा है, इस साहसी युवती का नाम निघत अब्बास है जिन्होंने इस्लामिक चरमपंथियों के लिए विडियो सन्देश जारी किया है जो आपको देखना चाहिए

निघत अब्बास ने इस्लामिक चरमपंथियों को लताड़ लगाकर कहा की – मैं मुस्लमान हूँ और मैं वन्दे मातरम कहूँगी, अगर किसी चरमपंथी में दम है तो रोक के दिखा दे

इस युवती ने बता दिया की सच्चा मुस्लमान भी वन्दे मातरम कह सकता है और जो वन्दे मातरम का विरोध कर रहे है वो सिर्फ मजहबी उन्मादी है, वन्दे मातरम से मजहब को कोई खतरा नहीं है, पर मजहबी उन्मादियों से जरुर है