साध्वी प्रज्ञा ने संस्कृत में ली शपथ, लिया अपने गुरु का नाम, भड़का विपक्ष, साध्वी को किया गया अपमानित

आज भारत की लोकसभा में साध्वी प्रज्ञा को काफी अपमानित किया गया, साध्वी प्रज्ञा ने आज बाकी सांसदों की ही तरह लोकसभा में एक सांसद के रूप में अपनी शपथ ली

लोकसभा में हर नए सांसद को शपथ लेनी होती है और आज 17 जून को सांसदों ने लोकसभा में शपथ ली, साध्वी प्रज्ञा मध्य प्रदेश की भोपाल सीट से लोकसभा की सांसद है और उन्होंने भी शपथ समारोह में हिस्सा लिया

साध्वी प्रज्ञा ने अपनी शपथ संस्कृत भाषा में ली और उन्होंने अपने नाम में अपने गुरु का नाम भी लगाया, मूल रूप से साध्वी प्रज्ञा ने संत परंपरा, संन्यास की परंपरा का पालन किया था

संन्यास की परंपरा में संन्यास की दीक्षा देने वाला गुरु ही पिता माना जाता है, योगी आदित्यनाथ भी अपने पिता की नाम की जगह महंत अवैद्यनाथ का ही नाम लेते है, ये ही संत परंपरा है

साध्वी प्रज्ञा ने भी ऐसे ही अपनी शपथ ली और अपने गुरु का नाम लिया, पहले विडियो देखिये

साध्वी प्रज्ञा द्वारा शपथ लेने के बाद विपक्ष के सांसद हंगामा करने लगे, और उन्होंने अस्थाई स्पीकर से इसकी शिकायत की, फिर साध्वी प्रज्ञा को अपमानित किया गया और उनको शपथ दुबारा लेने के लिए मजबूर कर दिया गया

साध्वी प्रज्ञा ने भारत की सनातन धर्म की परंपरा का पालन किया जिसके कारण विपक्ष भड़क गया, और साध्वी को दुबारा शपथ के लिए मजबूर कर दिया गया